Beetroot in Hindi- चुकन्दर के फायदे और नुकसान

चुकंदर का परिचय – Introduction of Beetroot in Hindi

Beetroot in Hindi चुकंदर यानी बीट कहा जाता है जो एक प्रजाति का पौधा है. जिसे बीटा वुल्गारिस या टैपरोट वनस्पति भी कहा जाता है। ये वनस्पति पूरे वर्ष पाई जाती हैं। Beetroot का वैज्ञानिक नाम “बीटा वल्गेरिस” है। Chukandar शाकीय पौधा है जो करीबन 30-90 सेमी ऊँचा होता है. वे मूली या शलगम के पत्ते के जैसे दीखते है. इसके फूल 2-3 के गुच्छों में होते है. इसका उपयोग ज्यादातर सलाद, सब्जियों और जूस में किया जाता है। Beetroot न केवल सुंदरता के लिहाज से फायदेमंद है, बल्कि यह सेहत के लिहाज से भी फायदेमंद है। Beetroot (चुकंदर) देखने में बहुत छोटा है लेकिन इसके फायदे कई हैं। आज हम चुकंदर के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Beetroot Benefits in Hindi. Information about Beetroot in hindi

ज्यादातर लोग चुकंदर खाने से संकोच रखते है. पर क्या आप जानते हो चुकंदर विभिन्न रोगों के लिए कितना फायदेमंद है? चुकंदर में पाए जाने वाले पोषण तत्वों से स्वास्थ्य को बहोत से लाभ होते हैं. Chukandar में विटामिन सी, बी -1, बी -2, बी -6 और बी -१२ पाए जाते है. और इसके पत्तो मे विटामिन-ए के साथ ही आयरन का भी अच्छा स्रोत होता हैं.

Beetroot in Hindi

चुकंदर के अनेक फायदे है. इसे हम कच्चा, सुप बना के या सलाद के रूप में भी खा सकते है. चुकंदर को सुपरफूड के रूप में भी जाना जाता है. चुकंदर के फायदे अनगिनत है जिनमे से कुछ हमने निचे बताये है.

कम कैलोरी और ज्यादा पोषण (चुकन्दर के फायदे)

चुकंदर में कैलोरी और फेट कम होने के साथ अधिक मात्रा में लगभग सभी विटामिन और खनिज होते हैं. जिनकी आवश्यकता हम सब को होती है.

100-ग्राम के एक चुकंदर में कुछ इस प्रकार से पोषक तत्व देखे गए हैं।

  • कैलोरी (Calories): 44
  • प्रोटीन (Protein): 1.7 ग्राम
  • फेट (Fat): 0.2 ग्राम
  • फाइबर (Fibar): 2 ग्राम
  • विटामिन सी (Vitamin C): RDI का 6%
  • विटामिन B6 (Vitamin B6): RDI का 3%
  • मैग्नीशियम (Magnesium): RDI का 6%
  • पोटेशियम (Potassium): RDI का 9%
  • फॉस्फोरस (Phosphorous): RDI का 4%
  • मैंगनीज (Manganese): RDI का 16%
  • लोहा (Iron): RDI का 4%

यहाँ RDI का मतलब Recommended Dietary Intake (अनुशंसित आहार सेवन) औसत दैनिक आहार सेवन स्तर है.

Beetroot के फायदे हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए

दिल की बीमारी दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हाई ब्लड प्रेशर हृदय रोग के लिए प्रमुख जोखिम कारकों में से एक है, जैसे दिल का दौरा, स्ट्रोक और दिल की विफलता. कुछ शोधों से पता चला है कि चुकंदर खाने से ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद मिलती है और यह कुछ समय के लिए ब्लड प्रेशर को 4 से 10 mm/hg तक कम कर सकता है। पके हुए चुकंदर की तुलना में कच्चे चुकंदर ब्लड प्रेशर कम करने के लिए अच्छे होते है.

बीट में नाइट्रेट्स की उच्च सांद्रता के कारण ये ब्लड प्रेशर कम करने में मदद करता है. आपके शरीर मे मौजूद नाइट्रेट्स को नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल दिया जाता है जो रक्त वाहिकाओं को पतला करता है, जिससे ब्लड प्रेशर कम हो जाता है

आहार खाने के बाद लगभग छह घंटे तक ब्लड में नाइट्रेट का स्तर ऊंचा रहता है। इसलिए, बीट्स का केवल ब्लड प्रेशर पर कुछ समय के लिए प्रभाव रहता है, और ब्लड प्रेशर में लम्बे समय के लिए कमी का अनुभव करने के लिए नियमित खाने की आवश्यकता होती है।

चुकन्दर के फायदे एनीमिया में फायदेमंद

ब्लड में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी को एनीमिया कहते है। अगर आसान भाषा में कहे तो शरीर में ब्लड की कमी। एनीमिया के लिए Chukandar सबसे किफायती और भरोसेमंद प्राकृतिक उपचार है।

चुकंदर का उपयोग ने से शरीर में खून बढ़ाता है। चुकंदर में आयरन अधिक मात्रा में पाया जाता है जिस के कारण ब्लड में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओंको सक्रिय और उनकी की संख्या बढ़ाने में मदद मिलती है। साथ ही बीट के सेवन से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

Beetroot के फायदे कैंसर से लड़ने में मददगार

चुकंदर में उच्च मात्रा में आयरन होता है, जो लाल रक्त कोशिकाओं (रेड ब्लड सेल्स) को पुनर्जीवित करने में मदद करता है, जो कैंसर कोशिकाओं को ऑक्सीजन तक पहुंचने में मदद करता है। जिसके कारण यह कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।

Chukandar के फायदे पाचन के लिए सहायक

Chukandar में बीटाइन और फाइबर बड़ी मात्रा में मौजूद होते है। अच्छे पाचन स्वास्थ्य के लिए बीटाइन फायदेमंद माना जाता है। फाइबर स्वस्थ आहार का एक महत्वपूर्ण घटक है। एक कप चुकंदर में 3.4 ग्राम फाइबर होता है.जो कब्ज, सूजन आंत्र रोग को भी रोक सकता है. साथ ही फाइबर पेट के कैंसर, हृदय रोग और टाइप 2 मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियों से भी बचता है.

बीटाइन के कारन पेट में होने वाले एसिड के स्तर को बढ़ाकर पाचन में सुधार करता है जिससे हर तरह का खाना पचने में आपको मदद मिलती है. और ईस्ट और बैक्टीरिया को भी नियंत्रित करता है।

Beetroot के फायदे मस्तिष्क के लाभदायक

उम्र के साथ मानसिक और संज्ञानात्मक कार्य स्वाभाविक रूप से घटते हैं। इसके परिणामस्वरूप पागलपन जैसी स्थिति हो सकती है जो मस्तिष्क में आपूर्ति ऑक्सीजन के कमी के कारन हो सकती है. चुकंदर के सेवन से उच्च नाइट्रेट मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ा सकता है. नाइट्रेट रक्त वाहिकाओं के फैलाव को बढ़ाता है जिससे ऑक्सीजन की कमी वाले स्थानों पर रक्त और ऑक्सीजन प्रवाह आसानी से बढ़ाता हैं।

चुकन्दर के फायदे वजन कम करने मे

जैसा की पहले भी हमने बताया है कि चुकंदर में सबसे ज़्यादा अलग-अलग पोषण तत्व होते हैं जो आपको वज़न घटाने के लिए काम आएंगे।

  • 1) Beetroot में कैलोरी में कम और पानी ज़्यादा होता हैं।
  • 2) Beetroot में कम कैलोरी के बावजूद प्रोटीन और फाइबर मध्यम मात्रा में होता है जो ये दोनों वज़न घटाने के लिए महत्त्वपूर्ण पोषक तत्व हैं।
  • 3) Beetroot में फाइबर मध्यम मात्रा में होने के कारन भूख को कम करके और पूर्णता की भावनाओं को बढ़ावा देकर वज़न घटाने में मदद कर सकता हैं।

हालाकि, अभीतक वज़न घटाने के लिए बीट्स के प्रभावों का सीधे परीक्षण नहीं किया है। मगर संभावना है कि अपने आहार में बीट्स को शामिल करने से वज़न घटाने में मदद ज़रूर मिल सकती है.

Beetroot Benefits for Skin in hindi (चेहरे को चमकाने के लिए)

चेहरे को चमकीला बनाने के लिए आपको बस 1 कप बीट को उबाल के फिर उसे कुचल कर धीरे-धीरे अपने चेहरे पर लगाएँ। 30 मिनट के बाद ठंडे पानी से आपके चेहरे को धोलें। अगर आप इसे नियमित रूप से उपयोग करते है, तो यह आपके चेहरे पर एक गुलाबी चमक दिखाएगा।

Chukandar ka juice स्किन प्रॉब्लम के लिए

Chukandar को उबालकर उस पानी को पिंपल्स और स्किन इंफेक्शन पर लगाने से स्किन प्रॉब्लम से राहत मिलती है। चुकंदर और टमाटर का रस बनाके उसमे हल्दी पाउडर को मिलाकर पीने से त्वचा कोमल बनती है और चमक भी बनी रहती है

मधुमेह रोग मेंBeetroot in Hindi

अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं, तो आपको चकुंदर अपने आहार में शामिल करना होंगा. चकुंदर मधुमेह के रोगियों के लिए वरदान भी है। चुकंदर मधुमेह रोगी की प्रमुख आवश्यकताओं को पूरा करता है. साथ ही ये ब्लड प्रेशर को भी काम करता है जिसकी जरुरत मधुमेह रोगीयो को ज्यादा जरुरत होती है.

जैसा की हमने आपको पहले भी बताया है कि चुकंदर में कैलरी कम होती है और यहाँ तक ​​कि यह शरीर पर अतिरिक्त फैट को इक्क्ठे होने से रोकने में मदद भी करता हैं।

फाइबर मधुमेह रोगी के शरीर के लिए महत्त्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है। चुकंदर आवश्यकताके अनुसार फाइबर को प्रदान करता है ।

साथ ही, चुकंदर हमारे शरीर की इंसुलिन संवेदनशीलता (insulin sensitivity) को रोकता है और ऑक्सीडेटिव (oxidative) तनाव को दूर करता है।

Beetroot के फायदे प्रेगनेंसी के लिए

यह महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी है लेकिन गर्भावस्था के दौरान, यह और भी महत्वपूर्ण है। चुकंदर का जूस पीने से ब्लड में हीमोग्लोबिन बढ़ने में मदद मिलती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाने के लिए चुकंदर का जूस पीने की सलाह दी जाती है। इसका का रस गर्भावस्था के दौरान एक महिला को एनेमिक होने से रोकता है।

हाइब्लड प्रेशर और ह्रदय रोगBeetroot in Hindi

बीट में पाया जाने वाला नाइट्रेट नामक एक रसायन रक्तचाप को कम करता है और साथ ही बुटान नामक तत्व रक्त को जमने से रोकता है। इस तरह चुकंदर दिल से संबंधित बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। चुकंदर का जूस पीने से हाइब्लड प्रेशर और ह्रदय रोग जैसी बीमारियां ठीक हो जाती हैं। इसके अलावा, चुकंदर का रस रक्त परिसंचरण में भी मदद करता है।

व्यायाम से पहलेBeetroot in Hindi

व्यायाम से पहले चुकंदर का रस पीने से व्यायाम और मांसपेशियों के प्रदर्शन में सुधार होता है। कुछ बड़े रिसर्च से पता चला है की ये न केवल व्यायाम करने वालो के लिए, बल्कि बुजुर्गों और पाचन, श्वसन या हृदय रोगों से पीड़ित लोगों के लिए भी फायदेमंद है।

Chukandar को पानी में उबालकर फिर उस को छान कर पानी पिये. शरीर की एनर्जी बढ़ने के लिए इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट मदद करता है। और साथ ही ये FIVER जैसी बीमारियों को भी ठीक करने में मदद करता है।

चुकंदर को और भी फायदे है जिसको हमने विस्तार से नहीं बताया.

  • सिर का गंजापन कम करने के लिए.
  • Dandruff दूर करने मे.
  • Conjunctivitis आँख आने पर.
  • मुंह के छाले.
  • दांत का दर्द.
  • खांसी से राहत.
  • कान का दर्द.
  • मोच का दर्द और सूजन कम करने मे.
  • जलन से दिलाये राहत.
  • कोलेस्ट्रॉल को कम करने मे.
  • हड्डियां करे मजबूत करने मे.

चुकंदर के नुकसानचुकंदर खाने से क्या नुकसान है?

जिस तरह चुकंदर खाने के फायदे हैं, उसी तरह बड़ी मात्रा में इसे खाने से नुकसान भी हो सकता है। जिनमे से कुछ हमने निचे बताये है.

  • Hemocromatosis – चुकंदर आयरन और कॉपर से भरपूर होता है। इसलिए, हेमोक्रोमैटोसिस (Hemocromatosis) वाले रोगियों को इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • Low Blood Pressure – जो लोग निम्न ब्लड प्रेशर (Low Blood Pressure) से पीड़ित हैं, उन्हें बीट का सेवन कम करना चाहिए।
  • Nausea and diarrhea – बहुत अधिक चुकंदर खाने से मतली और दस्त (nausea and diarrhea) हो सकता है।
  • Liver और Pancreas – बीट में आयरन, मैग्नीशियम, कॉपर और फॉस्फोरस की मात्रा अधिक होती है, जो अच्छी बात है। लेकिन बुरी खबर यह है कि ये सभी धातुएं हैं, और बहुत अधिक सेवन करने से ये जिगर (Liver) में जमा हो सकता है। इससे Liver और Pancreas को नुकसान पहुंचा सकते है।
  • किडनी की बीमारी : गुर्दे की बीमारियों से पीड़ित लोगों को चुकंदर के ज्यादा सेवन से बचना चाहिए।
  • टीम्यूरिया – चुकंदर अधिक सेवन से टीम्यूरिया जैसी बीमारी होने का खतरा भी होता है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति का पेशाब का रंग गुलाबी हो जाता है।
  • चुकंदर का अधिक मात्रा में सेवन करने से आपके खून में शुगर का स्तर बढ़ सकता है।
  • chukandar in english – BEETROOT
  • BEETROOT IN HINDI – Chukandar (चुकंदर)
  • beet in hindi – Chukandar (चुकंदर)

Conclusion

तो आप जान सकते हैं कि चुकंदर स्वास्थ्य के लिए कितना आवश्यक है और हानिकारक भी। स्वास्थ्य से जुड़ी हर चीज का सेवन करने से पहले, इसे अच्छी तरह से पढ़ लेना चाहिए और उसके बाद इन सभी चीजों को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल (Beetroot in Hindi- चुकन्दर के फायदे और नुकसान)
पसंद आया हो तो अपने दोस्तों को जरूर Share करे.

1 thought on “Beetroot in Hindi- चुकन्दर के फायदे और नुकसान”

Leave a Reply

Share via
Copy link
%d bloggers like this: